Tuesday, 22 November 2011

हाँ वो इक ख्वाब ही तो है



इक ख्वाब ही तो हैं
जिनमें वो जब मन होता है
तब चला आता है
... चहलकदमी करते हुए
अब यहाँ से भी उसे
खाली हाथ लौटा दूँ
नहीं .. इतनी कमज़र्फ मैं तो नहीं
इक उसी की जुस्तजू में तो
रातों का इंतज़ार किया करती हूँ
कि कब ख्वाब आयें
और कब .. वो
जानती हूँ
कि ख्वाब कभी पूरे नहीं होते
______

हाँ वो इक ख्वाब ही तो है
चलता - फिरता ख्वाब
इसलिए उस मखमली ख्वाब को
ख्वाबों में ही जी लेती हूँ मैं
खुद भी इक अदना - सा
ख्वाब बन कर .....

गुंजन
११/१०/११ —

4 comments:

  1. बहुत ही अच्छी.....

    ReplyDelete
  2. सुन्दर रचना|
    मैम आप के शब्दों का चुनाव बहुत सुन्दर होता है|

    ReplyDelete